शासन के मुख्य उद्देश्य अनुरूप स्वास्थ्य विभाग सभी व्यक्ति तक बेहतर और उच्च गुणवत्ता आधारित स्वास्थ्य सेवा पहुंचा रही - डॉ राज


कवर्धा।  ग्राम पंचायत मैनपुरी में आर्थिक अनुसन्धान केंद्र एवं स्थानीय स्वयंसेवी संस्थाओं के संयुक्त तत्वाधान में सोमवार को रोगी स्वास्थ्य जागरूकता अभियान का शुभारम्भ किया गया। कबीरधाम जिले के विभिन्न सामाजिक संस्थाओं, मिडिया एवं शिक्षाविद के प्रतिनिधि हरीश साहू नई चमक रक्तदान जनकल्याण समिति, चित्रारेखा राडेकर स्वास्थ्य अधिकार कार्यकर्ता, जयकरन साहू नवदीप प्रेरणा जनकल्याण संस्था, रत्नेश गुप्ता कवर्धा अनुग्रह सेवा समिति, बलराम साहू मया के चिन्हा, शिवभजन वर्मा बाल अधिकार संगठन, द फायर न्यूज, टी एन जी 7 न्यूज, दबंग केसरी, कबीर स्वयंसेवक, गणेश राम रेंगाखार, चंद्रकांत यादव गाँधी ग्राम विकास समिति (ग्रामोदय केंद्र) एवं ग्राम पंचायत के प्रतिनिधि सरपंच सीधेलाल पटेल, उपसरपंच कैलास चौबे, पंच, मितानिन, आँगनबाड़ी कार्यकर्ता शामिल हुए। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ बी एल राज नोडल अधिकारी स्वास्थ्य विभाग कबीरधाम ने कहा कि जिले के सभी शासकीय एवं निजी स्वास्थ्य केंद्र में रोगी अधिकार चार्टर को प्रदर्शित करने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के निर्देशों की जानकारी दी।


उन्होंने कहा कि रोगी स्वास्थ्य जागरूकता अभियान के तहत रोगी अधिकार चार्टर को प्रदर्शित करने, गाँव गाँव में स्वास्थ्य योजना का प्रचार प्रसार करने, ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समितियों को मजबूत करने की साझा पहल को शुभकामनाये देते अभियान का शुभांरभ किया। उन्होंने शासन की विभिन्न स्वास्थ्य योजनाओं के बारे में  विस्तार से जानकारी दिए, शासन का प्रयास है की कोई भी व्यव्क्ति स्वास्थ्य देखभाल से वंचित नहीं होगा। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि बाला राम साहू जिला समन्वयक रेडक्रास सोसायटी द्वारा कहा गया कि शासन की अनेक जन कल्याणकारी योजना संचालित है जिसे जन जन तक पहुंचाने का प्रयास सराहनीय है, उन्होंने रेडक्रास दिवस के संबंध में भी विस्तार से जानकारी प्रदान किये। कार्यक्रम का आयोजन साझा पहल द्वारा किया गया।  कार्यक्रम में श्रीमती मालती गर्ग शिक्षाविद ने कहा कि राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग द्वारा तैयार किए गए रोगियों के अधिकार के चार्टर के आधार पर स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्रालय ने 30 अगस्त 2018 को मरीजों के 13 अधिकारों वाले रोगियों के अधिकार के चार्टर को जारी किया और 2 जून 2019 को इसे अपनाने के लिए राज्य सरकारों को पत्र लिखा है। 


कार्यक्रम में अभियान की जानकारी देते हुए आर्थिक अनुसंधान केंद्र के प्रकाश गार्डिया ने कहा कि रोगियों को स्वास्थ्य के बारे में जागरूक करने, सरकारी स्वास्थ्य व्यवस्था को मजबूत बनाने में सबकी भागीदारी की जरुरत है। रोगियों के अधिकार का चार्टर इस प्रकार है बीमारी की प्रकृति और कारण प्रस्तावित जांच और देखभाल जटिलताओं और उपचार की लागत के बारे में पर्याप्त और प्रासंगिक जानकारी का अधिकार। अस्पताल में उपलब्ध सभी जांच उपचार और सुविधाओं की शुल्क दरों की जानकारी का अधिकार । इस शुल्क दरों को स्थानीय और अंग्रेजी भाषा में किसी खास जगह पर प्रदर्शित किया जाए। अपने मामले से जुड़े दस्तावेज मरीज रिकॉर्ड जांच रिपोर्ट और सिलसिलेवार विस्तृत लिखित बिल की एक कॉपी दिए जाने का अधिकार है। कानून के द्वारा मरीजों को 13 अधिकार दिए गए हैं, जिसका पालन सभी स्वास्थ्य केंद्रों के द्वारा किया जाना है।  



सरकार के द्वारा सभी स्वास्थ्य केंद्र निजी एवं सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में इसका व्यापक प्रचार प्रसार और चार्टर को प्रदर्शित किया जाएगा। कार्यक्रम में उपस्थित वरिष्ठ समाजसेवी जयकरण साहू एवं हरीश साहू ने कानून में दिए मरीज की जिम्मेदारियों के बारे में विस्तार से बताया उन्होंने कहा कि कानून में मरीजों की जिम्मेदारी है स्वास्थ्य संबंधित सभी जानकारियों को देना डॉक्टर के पास जाकर इलाज और जांच में सहयोग देना सभी निर्देशों का पालन करना, अस्पताल द्वारा तय किए गए शुल्क को समय पर अदा करना, डॉक्टर एवं अन्य स्वास्थ्य प्रदाताओं की गरिमा को स्वीकार करना,  कभी भी हिंसा में अग्रसर ना होना। जन स्वास्थ्य अभियान के राष्ट्रीय सदस्य एवं छत्तीसगढ़ संयोजक चंद्रकांत ने स्वास्थ्य में पोषण और आजीविका की अहम भूमिका पर बात कही उन्होंने कहा की स्वास्थ्य केवल दवा और बीमारी नहीं है बल्कि शरीर की मानसिक, शारीरिक और अन्य जरूरतों जैसे भोजन, रोजगार, आजीविका से भी जुड़ा हुआ है। कार्यक्रम में ग्रामीण महिलाओं के साथ साथ गणमान्य नागरिक, बच्चों की बड़ी संख्या में उपस्थिति रही। कार्यक्रम का संचालन चित्रारेखा राडेकर एवं चंद्रकांत यादव ने किया।